Operating System in Hindi: ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है? पूरी जानकारी

Operating System in Hindi ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है पूरी जानकारी

किसी भी मशीन को चलाने के लिए एक खास सिस्टम काम करती है ठीक वैसे ही कंप्यूटर को चलाने के लिए ऑपरेटिंग सिस्टम (Operating System in Hindi) अनिवार्य होती है। ऑपरेटिंग सिस्टम (OS) सॉफ्टवेयर का एक कलेक्शन है जो कंप्यूटर के हार्डवेयर रिसोर्स को मैनेज करता है और कंप्यूटर प्रोग्राम के लिए कॉमन सर्विस प्रदान करता है।

ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है? (What is Operating System in Hindi)

operating system in hindi

ऑपरेटिंग सिस्टम कंप्यूटर पर चलने वाला सबसे महत्वपूर्ण सॉफ्टवेयर है। यह सिर्फ कंप्यूटर की मैमोरी, प्रोसैस हीं नहीं बल्कि सभी हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर को भी मैनेज करने का काम करता है। बिना ऑपरेटिंग सिस्टम कंप्यूटर की कल्पना करना भी मुश्किल है। ऑपरेटिंग सिस्टम को इस तरह डिजाइन किया गया है कि यह कंप्यूटर के सभी रिसोर्स और ऑपरेशन को मैनेज कर सके। ऑपरेटिंग सिस्टम यह सुनिश्चित करता है कि सभी प्रोग्राम अच्छे से चले।

ऑपरेटिंग सिस्टम का इतिहास (History of Operating System in Hindi)

ऑपरेटिंग सिस्टम में आए बदलाव को जेनरेशन में बांटा जाता है। 1940 से लेकर 1950 तक ऑपरेटिंग सिस्टम की पहली जेनरेशन हुआ करती थी, यह वही समय है जब कंप्यूटर डेवलॉप हो रहा था।

वास्तव में पहले ऑपरेटिंग सिस्टम 1956 में जनरल मोटर्स द्वारा IBM 705 के लिए निर्माण किया गया था। जिसे दूसरी जेनरेशन कहा जाता है। जिसके बाद 1969 में यूनिक्स ऑपरेटिंग सिस्टम ने ऑपरेटिंग सिस्टम का पहला वर्जन विकसित किया था। इसे मिनी कंप्यूटर के लिए असेंबली भाषा में लिखा गया था। यह ऑपरेटिंग सिस्टम की तीसरी जेनरेशन थी और पर्सनल कंप्यूटर के विकास के साथ हीं शुरुआत हुई ऑपरेटिंग सिस्टम की चौथी जेनरेशन की।  

ऑपरेटिंग सिस्टम के प्रकार (Types of Operating System in Hindi)

ऑपरेटिंग सिस्टम को कार्यक्षमता के आधार पर चार प्रकार में बांटा गया है।

1. बैच ऑपरेटिंग सिस्टम : पूराने कंप्यूटर में किसी भी कार्य को करने के लिए उसे छोटे-छोटे समूहों में यानी बैच में बांट दिया जाता था।

2. टाइम शेयरिंग ऑपरेटिंग सिस्टम : जब रिसोर्स की क्षमता कम होती है और इसका उपयोग करने वाले यूजर की संख्या ज़्यादा होती है तब टाइम शेयरिंग ऑपरेटिंग सिस्टम का इस्तेमाल किया जाता है।

3. मल्टिटास्किंग ऑपरेटिंग सिस्टम : इसके नाम की तरह हीं इस ऑपरेटिंग सिस्टम में एक साथ कई कार्यों को किया जा सकता है। इसकी वजह से एक साथ कई प्रोग्राम खोलने और उसमें काम किया जा सकता है।

4. रियल टाइम ऑपरेटिंग सिस्टम : इसे RTOS भी कहा जाता है। इसमें किसी भी काम को पूरा करने के लिए एक निर्धारित समय तय किया जाता है। अगर ऑपरेटिंग सिस्टम उस समय में काम नहीं कर पाती तो काम फैल हो जाता है।

ऑपरेटिंग सिस्टम की विशेषताएं (Features of Operating System in Hindi)

• मैमोरी मैनेजमेंट : कंप्यूटर की मैमोरी को मैनेज करने का काम मुख्य रूप से ऑपरेटिंग सिस्टम के द्वारा किया जाता है। मैमोरी के कौन से हिस्से का इस्तेमाल कौन सा प्रोग्राम कर रहा है इसकी जानकारी भी ऑपरेटिंग सिस्टम रखता है। मल्टिप्रोग्रामिंग को मैनेज करने का काम भी ऑपरेटिंग सिस्टम हीं करता है।

• प्रॉसेसर मैनेजमेंट : प्रॉसेस के स्टेटस को ट्रेक करने का काम ऑपरेटिंग सिस्टम करती है। यह ट्रैफिक कंट्रोलर के रूप में भी काम करती है। जब किसी प्रोग्राम को प्रॉसेसर की जरूरत नहीं होती है तो उसे डिलॉकेट करने का काम भी ऑपरेटिंग सिस्टम करती है।

• डिवाइस मैनेजमेंट : ड्राइवर्स के जरिए ऑपरेटिंग सिस्टम डिवाइस कम्यूनिकेशन को मैनेज करती है। सिस्टम के साथ जुड़े सभी डिवाइस को ट्रैक करने का काम भी यहीं करता है। इसे I/O कंट्रोलर भी कहा जाता है।

• फाइल मैनेजमेंट : ऑपरेटिंग सिस्टम कंप्यूटर की फाइल सिस्टम को भी ट्रैक करने का काम करती है। किसी भी प्रोग्राम को रिसोर्स देने का निर्णय OS द्वारा हीं लिया जाता है।

• सिक्योरिटी मैनेजमेंट : सिस्टम के गोपनीय डाटा को सुरक्षित करने का काम ऑपरेटिंग सिस्टम करती है और किसी भी अनधिकृत व्यक्ति को सिस्टम एक्सेस करने से रोकती है।

ऑपरेटिंग सिस्टम के कार्य (Functions of Operating System in Hindi)

ऑपरेटिंग सिस्टम कंप्यूटर के लिए बहुत हीं महत्वपूर्ण है, इसके कुछ कार्य निम्नलिखित हैं।

  • हार्डवेयर मैनेजमेंट
  • मैमोरी मैनेजमेंट
  • प्रॉसेस मैनेजमेंट
  • फाइल को मैनेज करना
  • गोपनीय डाटा की सुरक्षा
  • यूजर इंटरफेस
  • नेटवर्किंग
  • एप्लिकेशन सपोर्ट
  • अपडेट और मेंटेनेंस

प्रमुख ऑपरेटिंग सिस्टम के नाम

कंप्यूटर, मॉबाइल, सर्वर सभी में अलग-अलग ऑपरेटिंग सिस्टम का इस्तेमाल किया जाता है।

कंप्यूटर (डेस्कटॉप) ऑपरेटिंग सिस्टम :

  • क्रोम
  • MS-Windows
  • Deepin
  • Free BSD
  • CentOS
  • Debian
  • Solaris
  • Fedora
  • Mac OS

मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम :

  • iOS
  • Android
  • PenPoint OS

सर्वर ऑपरेटिंग सिस्टम :

  • Linux
  • UNIX
  • Chrome OS

ये भी पढ़ेंवेबसाइट क्या है? पूरी जानकारी

निष्कर्ष

कंप्यूटर हो या मोबाइल उसे चलाने के लिए ऑपरेटिंग सिस्टम अनिवार्य है। बिना ऑपरेटिंग सिस्टम (Operating System in Hindi) कंप्यूटर या मोबाइल काम हीं नहीं कर सकता। बदलते समय के साथ ऑपरेटिंग सिस्टम में भी कई बदलाव आए, जो आज के कंप्यूटर और मोबाइल के कार्य करने की क्षमता से जान सकते हैं। अगर आप भी Operating System का कोर्स सिख के कंप्यूटर IT फील्ड में अपना कैरियर बनाना चाहते तोह आज ही पटना का सबसे सर्वोतम DCA Computer इंस्टिट्यूट BCIT WORLD में आज ही अपना डेमो फिक्स करे ।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQs)

Q1. ऑपरेटिंग सिस्टम के कार्य कौन कौन से हैं?

हार्डवेयर मैनेजमेंट, मैमोरी मैनेजमेंट, प्रॉसेस मैनेजमेंट, फाइल को मैनेज करना, गोपनीय डाटा की सुरक्षा, यूजर इंटरफेस, नेटवर्किंग, एप्लिकेशन सपोर्ट, अपडेट और मेंटेनेंस इत्यादि ऑपरेटिंग सिस्टम के कार्य है।

Q2. ऑपरेटिंग सिस्टम का महत्व क्या है?

किसी भी कंप्यूटर या मोबाइल तभी काम कर सकता है जब उसकी ऑपरेटिंग सिस्टम सही तरीके से काम कर रही हो। किसी भी डिवाइस की कार्य क्षमता उसके ऑपरेटिंग सिस्टम पर निर्भर करती है।

Q3. ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है?

ऑपरेटिंग सिस्टम कंप्यूटर या मोबाइल के सभी रिसोर्स और ऑपरेशन को मैनेज करने का काम ऑपरेटिंग सिस्टम करती है।

Q4. ऑपरेटिंग सिस्टम के कौन-कौन से प्रकार हैं?

ऑपरेटिंग सिस्टम के चार प्रकार है – बैच ऑपरेटिंग सिस्टम, टाइम शेयरिंग ऑपरेटिंग सिस्टम, मल्टिटास्किंग ऑपरेटिंग सिस्टम और रियल टाइम ऑपरेटिंग सिस्टम।

Q5. ऑपरेटिंग सिस्टम के कुछ उदाहरण ?

क्रोम, MS-Windows, Deepin, Free BSD, CentOS, Debian, Solaris, Fedora, Mac OS, iOS, Android, PenPoint OS, Linux, UNIX, Chrome OS इत्यादि ऑपरेटिंग सिस्टम के उदाहरण है।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *